ट्रासंफॉर्मर में ब्लास्ट होने से अस्पताल में लगी भीषण आग, खिड़कियां तोड़कर निकाले 600 मरीज

अमृतसर में धमाका होने की वजह से गुरु नानक देव अस्पताल में आग लगी है। जानकारी के मुताबिक शनिवार दोपहर गुरु नानक देव अस्पताल के पिछले साइड दो ट्रांसफार्मर में अचानक ब्लास्ट हो गया

ट्रासंफॉर्मर में ब्लास्ट होने से अस्पताल में लगी भीषण आग, खिड़कियां तोड़कर निकाले 600 मरीज


न्यूज़ एजेंसी . चंडीगढ़  04-05-2022


अमृतसर में धमाका होने की वजह से गुरु नानक देव अस्पताल में आग लगी है। जानकारी के मुताबिक शनिवार दोपहर गुरु नानक देव अस्पताल के पिछले साइड दो ट्रांसफार्मर में अचानक ब्लास्ट हो गया। एक्स.रे यूनिट की बैक साइड से आग तेजी से फैलती चली गई। आनन.फानन में अस्पताल के  विभिन्न वार्डों में उपचाराधीन 600 से अधिक मरीजों को बाहर निकाला गया। 

 

इस दौरान ऑपरेशन थिएटर में डॉक्टर मरीज सर्जरी भी कर रहे थे। आग लगने के बाद मरीज में डॉक्टर बाहर निकले। इस घटना में एक कर्मचारी का स्कूटर भी जल गया है। सभी मरीजों को बाहर निकाल कर सड़क पर लाया गया। अस्पताल में फंसे कुछ मरीजों को बाहर निकालने के लिए खिड़कियां भी तोड़ी गई , क्योंकि धुआं बहुत ज्यादा था। घटना दोपहर दो बजे के करीब गुरु नानक देव अस्पताल में हुई। 

 

शनिवार होने के कारण ओपीडी में मरीज नहीं थे , लेकिन अस्पताल में 650 के करीब मरीज भर्ती हैं। ओपीडी के पिछली ओर और एक्स.रे यूनिट के पास दो ट्रांसफार्मर लगे हैं। इनसे पूरे अस्पताल को बिजली सप्लाई हो रही है। दोपहर के समय इन ट्रांसफार्मरों में अचानक ब्लास्ट हुआ और आग लग गई। आग की लपटें काफी ऊपर तक गईं। ट्रांसफार्मरों के बिल्कुल ऊपर स्किन वार्ड है।

 

 धुंआ इतना ज्यादा था कि वार्ड के मरीजों को तुरंत बाहर निकालना पड़ा। आग ट्रांसफार्मरों पर लगने के कारण पूरे अस्पताल में धुआं फैल गया। मरीजों का धम घुटने लगा। इसके बाद सभी मरीजों को अस्पताल से बाहर सड़क पर लाया गया।

 

एकदम मची भगदड़ के कारण कई मरीजों को खिड़कियां तोड़ बाहर निकाला गया। गौरतलब है कि शहर में गर्मी के कारण आगजनी की घटनाएं लगातार बढ़ रही है। इन घटनाओं में प्रशासन की नाकामी भी सामने आ रही है।