विश्व की सबसे कठिन धार्मिक यात्राओं में शुमार श्रीखंड महादेव यात्रा 11 जुलाई से  होगी शुरू 

विश्व की सबसे कठिन धार्मिक यात्राओं में शुमार श्रीखंड महादेव यात्रा 11 जुलाई से शुरू होगी। 18570 फीट की ऊंचाई पर भोलेनाथ के दर्शन करने के लिए कई ग्लेशियर पार करने पड़ते हैं। यह यात्रा 24 जुलाई तक चलेगी

विश्व की सबसे कठिन धार्मिक यात्राओं में शुमार श्रीखंड महादेव यात्रा 11 जुलाई से  होगी शुरू 

यंगवार्ता न्यूज़ - कुल्लू      21-06-2022

विश्व की सबसे कठिन धार्मिक यात्राओं में शुमार श्रीखंड महादेव यात्रा 11 जुलाई से शुरू होगी। 18570 फीट की ऊंचाई पर भोलेनाथ के दर्शन करने के लिए कई ग्लेशियर पार करने पड़ते हैं। यह यात्रा 24 जुलाई तक चलेगी। इस बार यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। 

इच्छुक यात्री दो रुपये शुल्क के साथ ऑनलाइन पंजीकरण करवा सकेंगे। उन्हें मेडिकल फिटनेस सर्टिफिकेट भी अपलोड करना होगा। जिला प्रशासन ने अधिकारिक यात्रा को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसी सिलसिले में सोमवार को निरमंड में उपायुक्त कुल्लू आशुतोष गर्ग की अध्यक्षता में बैठक हुई। इसमें आनी के विधायक किशोरी लाल सागर विशेष रूप से मौजूद रहे। 

उपायुक्त एवं श्रीखंड यात्रा ट्रस्ट के अध्यक्ष आशुतोष गर्ग ने कहा कि इस बार भी यात्रा के दौरान पांच बेस कैंप स्थापित किए जाएंगे। इनमें पंजीकरण के अलावा स्वास्थ्य चेकअप, रेस्क्यू टीम के अलावा सभी इमरजेंसी सुविधाएं मुहैया होंगी। सफाई व्यवस्था बनाए रखने के लिए एक विशेष दल का गठन किया जाएगा।

कुल्लू के निरमंड में करीब 18570 फीट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव की बहुत धार्मिक मान्यता है। निरमंड से आगे जाओं नामक स्थान से करीब तीस किमी पैदल यात्रा कर भक्त श्रीखंड पहुंचते हैं। संकरी, खड़ी और कठिन चढ़ाई में भक्तों को कई प्रकार की जड़ी-बूटियों और सुंदर घाटियों के दर्शन होते हैं।

जाओं से आगे सिंहगाड़, थाचडू, नयन सरोवर, भीमडवारी और पार्वती बाग जैसे सुंदर स्थानों का दर्शन करने के बाद श्रीखंड महादेव के दर्शन होते हैं। सरकार ने इस यात्रा को बीते सात साल से अब ट्रस्ट के अधीन किया है। उपायुक्त कुल्लू ट्रस्ट समिति के चेयरमैन हैं।