शाम चार बजे के बाद मेडिकल कॉलेज के वार्ड में आवारा कुत्तों का कब्जा , सफाई और सुरक्षा व्यवस्था बदहाल 

डॉ. वाईएस परमार मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल आवारा कुत्तों का आशियाना बन कर रह जाता है। आलम यह है कि अक्सर चार बजे के बाद अस्पताल के वार्डों में आवारा कुत्ते दौड़ते हुए देखे जा सकते हैं

शाम चार बजे के बाद मेडिकल कॉलेज के वार्ड में आवारा कुत्तों का कब्जा , सफाई और सुरक्षा व्यवस्था बदहाल 
 
प्रीति रानी - नाहन  23-06-2022
 
डॉ. वाईएस परमार मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल आवारा कुत्तों का आशियाना बन कर रह जाता है। आलम यह है कि अक्सर चार बजे के बाद अस्पताल के वार्डों में आवारा कुत्ते दौड़ते हुए देखे जा सकते हैं। अस्पताल के शौचालय और बाथरूम कितने गंदे हैं के अच्छा खासा आदमी भी बीमार हो जाए। 
 
 
जानकारी के मुताबिक डॉ. वाई एस परमार  मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के कई वार्ड में शाम को 4:00 बजे के बाद आवारा कुत्ते घूमते रहते हैं , लेकिन इन पर लगाम नहीं लग पा रही है। भले ही अस्पताल में करीब 2 दर्जन से अधिक सुरक्षाकर्मी तैनात है। बावजूद इसके भी अस्पताल मानो आवारा कुत्तों का अड्डा बन कर रह गया है।
 
 
 
 कई मर्तबा और रात को वार्ड के बेड पर कुत्ते सोए हुए देखे जा सकते हैं। अस्पताल में उपचाराधीन रोगियों का कहना है कि अस्पताल में सफाई व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। अस्पताल में उपचाराधीन रोगियों के तीमारदारों ने बताया कि अस्पताल के शौचालय और बाथरूम में इतनी गंदगी है कि वहां पर स्वस्थ आदमी भी बीमार हो सकता है।
 
तीमारदारों का कहना है कि कई शौचालयों में तो नल के तक नहीं है जिसके चलते पानी व्यर्थ बहता रहता है। उन्होंने अस्पताल प्रशासन से मांग की है कि अस्पताल की सफाई व्यवस्था को दुरुस्त किया जाए साथ ही सुरक्षा का जिम्मा देख रही एजेंसी को भी सतर्क किया जाए ताकि अस्पताल में आवारा कुत्ते नजर ना आये।