शिलाई की तीन बेटियां बनेगी डाक्टर , दुर्गम इलाके की छात्राओं ने रचा इतिहास 

शिलाई की तीन बेटियां बनेगी डाक्टर , दुर्गम इलाके की छात्राओं ने रचा इतिहास 
यंगवार्ता न्यूज़ - शिलाई 29-11-2020
 
उपमंडल शिलाई की तीन बेटियों ने नीट की परीक्षा पास करके एमबीबीएस में प्रेवश के लिए स्थान हासिल किया है। बेटियों की गोरावमंयी सफलता के लिए समूचे क्षेत्र में खुशी का माहौल है।
 
उपमंडल की ग्राम पंचायत बाली-कोटी के गाँव कण्ड्यारी की गुलशन नेगी पुत्री रामभज नेगी, ग्राम पंचायत नाया-पंजोड के गांव नाया की दीक्षा मोहिल पुत्री भारत भूषण मोहिल और  ग्राम पंचायत कांडो-च्योग के गांव च्योग की मानसी चौहान पुत्री डीएस चौहान ने क्षेत्र वासियों के लिए इतिहास बनाया है।
 
एक साथ तीन बेटियों की सफलता ने समूचे प्रदेश को दिखाया है कि मेहनत व लग्न से किये गए कार्य सफलता की मंजिल प्रदान करते है।  बेटियों के पिता रामभज नेगी, भारत भूषण मोहिल, डीएस चौहान का परिजनों सहित बेटियों की सफलता के बाद खुशियों का ठिकाना नही रहा है। समूचे गांव में खुशी की मिठाई बांटी जा रही है, परिजन बताते है कि बेटियां किसी से कम नही है हर क्षेत्र में अब्ब्वल दर्जे पर क्षेत्र व प्रदेश का नाम रोशन कर रही है।
 
शिलाई के दुर्गम क्षेत्र में अच्छे शेक्षणिक संस्थान नही है, न ही क्षेत्रीय सरकारी संस्थानों में उचित सुविधाएं उपलब्ध है बावजूद उसके भी  शिक्षा प्राप्त करने के बाद बेटियों ने शहर का रुख करके शहर के बच्चों को दिखया है कि शिलाई क्षेत्र में बेटियां, बेटों से कम नही है न कमजोर है।
 
क्षेत्र की तीनों बेटियों ने एमबीबीएस में प्रवेश पाया है यह पहला मौका नही है इससे पहले विभिन्न क्षेत्रों में क्षेत्र की बेटियों ने क्षेत्र, प्रदेश व देश का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रोशन किया है, इस बार मेडिकल में बेटियों ने नाम रोशन करके क्षेत्र को खुशिया प्रदान की है। बेटियों ने पढ़ाई की उचित सुविधाएं न होने पर भी प्रदेश में अपने अधिकार हासिल किए है।