आधुनिक मशीनों से खेती करने लगे संगड़ाह के किसान , क्षेत्र में ब्रश कटर से हो रही गैंहू की फसल की कटाई 

आधुनिक मशीनों से खेती करने लगे संगड़ाह के किसान , क्षेत्र में ब्रश कटर से हो रही गैंहू की फसल की कटाई 

यंगवार्ता न्यूज़ - संगड़ाह  19-04-2021

प्रदेश के दूरदराज क्षेत्रों में शामिल उपमंडल संगड़ाह के कईं प्रगतिशील किसान अब पारंपरिक तकनीक की जगह मशीनों से खेती शुरू कर चुके हैं। क्षेत्र में इन दिनों कईं किसानों ब्रश कटर से गैंहू व रबी की अन्य फसलों की कटाई कर रहे हैं। 

गांव सीऊं के किसान राजेश शर्मा ने बताया कि, एक ब्रश कटर करीब 5 लोगों अथवा मजदूरों जितनी फसल काट रहा है। उन्होने 12 हजार में यह यंत्र खरीदा, हालांकि 5 हजार मे भी सस्ते ब्रश कटर मिल जाते हैं। 

अब क्षेत्र के छोटे व सीढ़ीनुमा खेत जोतने के लिए जहां बैलों की जगह पावर वीडर व पावर टिलर का इस्तेमाल होने लगा है। वहीं घास काटने के लिए भी ब्रश कटर का इस्तेमाल कईं किसान शुरू कर चुके हैं। 

संगड़ाह के साथ लगते गांव डुंगी के प्रगतिशील किसान तपेंद्र शर्मा व पंकज तथा काठियोग के अशोक ने इस बार रबी की फसल की बिजाई बैलों की जगह पावर वीडर से की तथा कटाई के लिए ब्रश कटर का इस्तेमाल कर रहे हैं। 

कृषि उपकरण खरीदने के लिए कृषि व बागवानी विभाग से राज्य कृषि यंत्रीकरण योजना के तहत अनुदान भी दिया जाता है। सिंचाईं के लिए भी किसान स्प्रिंग्कलर का इस्तेमाल कर पानी का सदुपयोग कर रहे हैं। 

गौरतलब है कि, क्षेत्र में 80 के दशक तक जहां केवल गेहूं व मक्की आदि खाद्यान्न फसलें ही बड़े पैमाने पर उगाई जाती थी, वहीं अब टमाटर, मटर, अदरक लहसुन व गोभी आदि नगदी फसलों तथा बैमौसमी सब्जियों किसानो की कमाई का मुख्य जरिया है। 

नकदी फसलों से किसानों का जीवन स्तर भी बेहतर हुआ, जिसके चलते क्षेत्र के कईं युवा आज डॉक्टर, इंजीनियर व प्रशासनिक अधिकारी भी बन चुके हैं। क्षेत्र के अधिकतर हिस्सों में क्योंकि खेत छोटे होने के चलते ट्रैक्टर का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है, इसलिए लोग पावर टिलर व पावर वीडर जैसी मशीनों अथवा कृषि उपकरणों का इस्तेमाल कर खेती को आसान बना रहे हैं।