किसान नेता टिकैत के हिमाचल आने पर नही आपत्ति लेकिन भाषा पर रखे संयम : विक्रमादित्य 

किसान नेता टिकैत के हिमाचल आने पर नही आपत्ति लेकिन भाषा पर रखे संयम : विक्रमादित्य 

यंगवार्ता न्यूज़ - सोलन   29-08-2021

किसान नेता राकेश टिकैत का सोलन में बीते दिन हुए विवाद के बाद कांग्रेस के विधायक विक्रमादित्य सिंह विरोध में उतर आए है। बीते दिन जहा उन्होंने सोशल मीडिया पर अराजकता न फैलने की राकेश टिकैत को नसीहत दी थी। 

वही रविवार को विक्रमादित्य सिंह राकेश का हिमाचल में आने पर स्वागत किया लेकिन उन्हें भाषा पर संयम रखने को कहा। विक्रमादित्य सिंह ने  पिछले कल सोलन में किसान नेता राकेश टिकैत के साथ एक व्यक्ति से हुए वाद विवाद को अनावश्यक बताते हुए कहा कि नेता हो या कोई आम,सभी को अपनी भाषा पर सयम रखना चाहिए ।

उन्होंने कहा कि उन्हें प्रदेश में किसान नेता टिकैत के आने से कोई आपत्ति नही है।उन्हें आपत्ति केवल अभद्र भाषा  से है।उन्होंने कहा कि जब कोई इस प्रकार का विवाद या तनाव पैदा हो जाता है तो यात्रा या किसी भी आंदोलन का असली मकसद पीछे रह जाता है।उ

नका कहने का यही मकसद भी था। वह राकेश टिकैत का सम्मान करते है। वह किसानों की एक बड़ी लड़ाई लड़ रहे है और किसान आंदोलन का वह स्वम् भी समर्थन करते है

विक्रमादित्य सिंह ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया कि वह प्रदेश में सेब बागवानों के हितों की रक्षा करने में पूरी तरह विफल रही है।उन्होंने कहा कि उन्होंने किसानों व बागवानों के मुद्दों को सदन के अंदर भी उठाया है।

प्रदेश में पूर्व वीरभद्र सिंह सरकार के समय कोल्ड स्टोर खोले गए, सरकारी विपणन व्यवस्था शुरू की,साथ मे न्यूनतम समर्थन मूल्य शुरू किया था।उन्होंने कहा कि प्रदेश में लकड़ी के  बक्सों की जगह गत्ते की पेटियों का प्रचलन कांग्रेस सरकार ने ही शुरू किया था।

इसके लिये गुम्मा के प्रगति नगर  में एक बड़ी गत्ता फेक्ट्री भी स्थापित की थी। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सरकार ने बागवानी विकास के लिये 1400 करोड़ का एक प्रोजेक्ट भी लाया था जो बर्तमान सरकार की उपेक्षा का शिकार बना है।