पंडोह डैम से लेकर मंडी तक ब्यास नदी के किनारे लगाए जाएंगे 6 हूटर, चारों दिशाओं में सुनाई देगा हूटर

बरसात में इन दोनों बांधों से हिमाचल में काफी ज्यादा नुकसान होता है। पानी छोड़ने के लिए जैसे ही पंडोह डैम के गेट खुलेंगे उसी समय डैम से लेकर मंडी शहर तक जोर से हूटर बज जाएंगे

Jul 7, 2024 - 15:56
 0  52
पंडोह डैम से लेकर मंडी तक ब्यास नदी के किनारे लगाए जाएंगे 6 हूटर, चारों दिशाओं में सुनाई देगा हूटर

यंगवार्ता न्यूज़ - मंडी    07-07-2024

बरसात में इन दोनों बांधों से हिमाचल में काफी ज्यादा नुकसान होता है। पानी छोड़ने के लिए जैसे ही पंडोह डैम के गेट खुलेंगे उसी समय डैम से लेकर मंडी शहर तक जोर से हूटर बज जाएंगे, इससे लोग उसी समय अलर्ट हो जाएंगे। बीबीएमबी प्रबंधन इसके लिए पंडोह डैम पर अर्ली वॉरनिंग सिस्टम को लगाने जा रहा है। 

यह जानकारी बीबीएमबी के अधीक्षण अभियंता ई. अजयपाल सिंह ने पंडोह डैम में बीएसएल परियोजना के 48वें स्थापना दिवस पर आयोजित समारोह के उपरांत मीडिया कर्मियों से बातचीत के दौरान दी। 

उन्होंने बताया कि सेंसर बेसड इस अर्ली वार्निंग सिस्टम का टेंडर लगा दिया गया है और अगले दो महीनों में इसे स्थापित कर दिया जाएगा। पंडोह डैम से लेकर मंडी शहर तक ब्यास नदी के किनारे 6 हूटर लगाए जाएंगे। यह हूटर न सिर्फ बजेगा बल्कि आवाज के माध्यम से संदेश प्रसारित करने का भी प्रावधान होगा। 

हूटर ऑमनी डायरेक्शनल होगा जो चारों दिशाओं में सुनाई देगा। इससे पहले यह हूटर सिर्फ पंडोह डैम और बाजार के आस-पास ही बजता था लेकिन उसे मैनुअली बजाना पड़ता था। अब इसे ऑटोमेटिक सिस्टम से लगाया जा रहा है।

अजयपाल सिंह ने स्पष्ट किया कि पंडोह डैम कोई स्टोरेज डैम नहीं बल्कि डायवर्शन डैम है। यहां से बग्गी के लिए पानी भेजने के लिए जो टनल बनाई गई है उससे 8500 क्यूसेक पानी भेजा जाता है जबकि बाकी पानी ब्यास नदी में ही छोड़ना पड़ता है। 

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow