पर्यावरण संरक्षण के लिए सॉलिड और तरल बेस्ट का वैज्ञानिक तरीके से निपटान आवश्यक

अतिरिक्त उपायुक्त मंडी रोहित राठौर ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी विभाग बेस्ट प्रबंधन के लिए जन-जन को जागरूक करने के लिए ठोस कदम उठाना सुनिश्चित करें

Jul 6, 2024 - 11:19
 0  21
पर्यावरण संरक्षण के लिए सॉलिड और तरल बेस्ट का वैज्ञानिक तरीके से निपटान आवश्यक

यंगवार्ता न्यूज़ - मंडी    06-07-2024

अतिरिक्त उपायुक्त मंडी रोहित राठौर ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी विभाग बेस्ट प्रबंधन के लिए जन-जन को जागरूक करने के लिए ठोस कदम उठाना सुनिश्चित करें। वे डीआरडीए समिति हॉल में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के विभिन्न विचाराधीन और निपटाए गए मामलों के लिए  बनाई गयी जिला स्तरीय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे। 

बैठक में सुंदरनगर की वायु गुणवत्ता को बनाये रखने हेतु किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की गयी, इसके साथ ही ब्यास नदी की गुणवत्ता बनाए रखने हेतु किये जाने वाले कार्यों की भी  समीक्षा की गई। 

उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए सॉलिड और तरल बेस्ट का वैज्ञानिक तरीके से निपटारा आवश्यक है। सभी विभाग इस संबंध में हुई प्रोग्रेस की जानकारी हर माह देना देना सुनिश्चित करें ताकि एनजीटी द्वारा दिए गए आदेशों की अक्षरशः अनुपालना सुनिश्चित हो।

अतिरिक्त उपायुक्त ने कहा कि भूजल प्रबंधन प्रणाली के अंतर्गत समयबद्ध तरीके से ठोस कदम उठाए जाएं। कहा कि जिला के विविध स्थानों पर बोरवेल लगाने से पहले संबंधित व्यक्ति से पंजीकरण समेत तमाम औपचारिकताएं पूरी कराना सुनिश्चित बनाएं। जहां पहले से बोरवेल लगे हुए हैं, उनसे नियमानुसार पंजीकरण शीघ्र करवाए जाएं।

स्वास्थ्य महकमे से उन्होंने कहा कि जैव अपशिष्ट जल (बायो बेस्ट वाटर) का सही तरीके से निस्तारण किया जाए। वहीं, स्वास्थ्य व वन महकमें को अपने कार्यक्षेत्र में समयबद्ध सभी लक्ष्यों को पूरा करने को भी कहा। उन्होंने मंडी जिले के सभी महकमों को निर्देशित किया कि आपसी तालमेल से भू-खनन माफिया पर शिकंजा कसा जाए।

बैठक में क्षेत्रीय अधिकारी एवं एनजीटी मामलों की जिला स्तरीय कमेटी के सदस्य सचिव विनय कुमार ने मदवार सभी मुद्दों को विविध विभागों के उपस्थित अधिकारियों व प्रतिनिधियों के समक्ष समीक्षा के लिए बिंदुवार प्रस्तुत किया।

बैठक में नगर निगम आयुक्त एसएस राणा, परियोजना अधिकारी डीआरडीए जीसी पाठक, सहायक निदेशक पशुपालन डॉ एआरएस कपूर, जिला आयुष अधिकारी डॉ राजेश कुमार, डीटीडीओ मनोज कुमार, कंसलटेंट डॉ प्रीत ठाकुर, डीएफएससी पवन कुमार शर्मा, सहित विविध विभागों के अधिकारी व प्रतिनिधि उपस्थित थे।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow