हिमाचल के दो निजी विश्वविद्यालयों की 80 डिग्रियां फर्जी, मानव भारती की 41 हजार में से 36 हजार डिग्रियां जाली 

हिमाचल में चल रहे निजी विश्वविद्यालयों की फर्जी डिग्रियां बनाकर बेची गई हैं। सत्यापन के दौरान 80 डिग्रियां फर्जी मिलीं, जिन्हें दूसरे राज्यों में बेचा गया है

हिमाचल के दो निजी विश्वविद्यालयों की 80 डिग्रियां फर्जी, मानव भारती की 41 हजार में से 36 हजार डिग्रियां जाली 

 

यंगवार्ता न्यूज़ - शिमला  05-08-2022
 
हिमाचल में चल रहे निजी विश्वविद्यालयों की फर्जी डिग्रियां बनाकर बेची गई हैं। सत्यापन के दौरान 80 डिग्रियां फर्जी मिलीं, जिन्हें दूसरे राज्यों में बेचा गया है। हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को पत्र लिखा है। कहा है कि संबंधित थाना में एफआइआर दर्ज करवाई जाए। भविष्य में यदि कोई और मामला आता है तो तुरंत एफआइआर करवाई जाए।शिक्षा विभाग को भी पत्र जारी किया है।
 
दोहरे सत्यापन ( क्रॉस वेरिफिकेशन ) के लिए डिग्रियां विभाग के पास भी आती हैं। आयोग विश्वविद्यालयों के नाम अभी सार्वजनिक नहीं कर रहा है। सोलन जिले में मानव भारती विश्वविद्यालय में सबसे पहले फर्जी डिग्री का मामला आया था। सरकार ने इस मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित की है। मानव भारती विश्वविद्यालय की 41 हजार में से 36 हजार डिग्रियां फर्जी पाई गई थीं। 
 
आयोग के अध्यक्ष मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) अतुल कौशिक ने कहा कि आयोग और विश्वविद्यालयों की जांच से लग रहा है कि डिग्रियां दलालों ने बेची हैं। अपने स्तर पर ही इन्हें बनाया गया है। असली डिग्री की कापी तैयार की गई है। पुलिस जांच में स्पष्ट हो जाएगा कि किस ने डिग्रियां बेची और कितने में सौदा हुआ था। सरकारी विभाग, बोर्ड और निगम में नौकरी लगने के बाद डिग्री का सत्यापन करवाते हैैं।
 
कुछ निजी कंपनियां भी डिग्री का सत्यापन करवाती हैं। इन डिग्रियों को विश्वविद्यालयों के पास सत्यापन के लिए भेजा गया। विश्वविद्यालयों के रिकॉर्ड से मिलान नहीं होने पर आयोग के पास मामला भेजा गया। इसी के आधार पर आयोग ने एफआईआर दर्ज कर जांच के लिए कहा है।