हिमाचली सपूत विंग कमांडर मोहित राणा को बहनों ने राखी बांध कर दी अंतिम विदाई, पत्नी ने दी मुखाग्नि

 राजस्थान के बाड़मेर में वीरवार रात को दुर्घटनाग्रस्त हुए भारतीय वायु सेना के मिग-21 विमान हादसे में शहीद हुए विंग कमांडर मोहित राणा का पार्थिव शरीर चंडीगढ़ पहुंच गया

हिमाचली सपूत विंग कमांडर मोहित राणा को बहनों ने राखी बांध कर दी अंतिम विदाई, पत्नी ने दी मुखाग्नि
हिमाचली सपूत विंग कमांडर मोहित राणा को बहनों ने राखी बांध कर दी अंतिम विदाई, पत्नी ने दी मुखाग्नि

 

यंगवार्ता न्यूज़ - चंडीगढ़  30-07-2022
 
 राजस्थान के बाड़मेर में वीरवार रात को दुर्घटनाग्रस्त हुए भारतीय वायु सेना के मिग-21 विमान हादसे में शहीद हुए विंग कमांडर मोहित राणा का पार्थिव शरीर चंडीगढ़ पहुंच गया। उनकी पार्थिव देह आज दोपहर 12 बजे के करीब न्यू चंडीगढ़ स्थित उनके घर पहुंची थी। वहीं दोपहर 3 बजे सेक्टर-25 स्थित श्मशान घाट में राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया किया। 
 
अंतिम संस्कार के मौके पर श्मशान घाट पर लोगों की काफी भीड़ रही। शहीद मोहित राणा के परिवार के सदस्य समेत बड़ी संख्या में रिश्तेदार भी मौजूद रहे। उन्हें उनकी पत्नी निधी और चाचा के बेटे रोहित ने मुखाग्नि दी। इससे पहले बलिदानी विंग कमांडर मोहित राणा के न्यू चंडीगढ़ के ओमेक्स सिटी स्थित घर पर उनके अंतिम दर्शनों के लिए भीड़ उमड़ी थी। मोहित की दो बहने हैं जिन्होंने उन्हें राखी भी बांधी। पूरे परिवार के सदस्यों को रो रोकर बुरा हाल था। 
 
वहीं उनके घर पर वायुसेना के अधिकारी और पुलिस जवान भी तैनात रहे।शहीद विंग कमांडर मोहित राणा मूलरूप से हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के संधोल के रहने वाले थे, लेकिन उनका परिवार न्यू चंडीगढ़ में रहता है। मोहित के पिता ओम प्रकाश राणा सेना से लेफ्टिनेंट कर्नल के पद से सेवानिवृत्त हैं। मोहित राणा के पार्थिव शरीर के पहुंचने से पहले ही उनके तमाम रिश्तेदार व करीबी उनके घर में मौजूद थे। 
 
हिमाचल प्रदेश स्थित उनके गांव से भी लोग चंडीगढ़ पहुंचे हैं जो उनके अंतिम संस्कार में शामिल हुए। गौर हो कि विंग कमांडर मोहित की एक 3 साल की बेटी भी है। उनके माता-पिता न्यू चंडीगढ़ की ओमेक्स सिटी में रहते हैं, जबकि उनकी पत्नी निधी और बेटी उनके साथ ही राजस्थान के एयरफोर्स स्टेशन पर रहते थे। मोहित राणा की पत्नी और 3 साल की मासूम बेटी को भी वायु सेना के जवान राजस्थान से साथ लेकर आए हैं। 
 
बताते है कि विंग कमांडर मोहित राणा ने 2001 में एनडीए पास किया था, इसके बाद 2005 में वह एयरफोर्स में गए थे। विंग कमांडर मोहित राणा मौजूदा समय में इंस्ट्रक्टर के पद पर तैनात थे और वह देश के लिए 200 से ज्यादा पायलट तैयार कर चुके थे। रिटायर्ड लेफ्टिनेंट कर्नल ओम प्रकाश राणा ने बताया कि उनका एक बेटा (मोहित) और दो बेटियां हैं। 
 
23 जुलाई को मोहित का जन्मदिन था। हम सब बहुत खुश थे। मोहित भी बहुत खुश था। वीरवार रात करीब 12 बजे बहू (मोहित की पत्नी) का फोन आया कि मोहित अब इस दुनिया में नहीं रहे। वह विमान दुर्घटना में हादसे का शिकार हो गए हैं। हमने अपना जवान बेटा खो दिया है, मोहित ने देश के लिए बलिदान दिया है। इसलिए उस पर गर्व भी है।