दिल्ली के लिए 137 क्यूसेक अतिरिक्त पानी छोड़े हिमाचल , सुप्रीम कोर्ट की दो टूक बोले , पानी पर न हो राजनीति

पानी की कमी से जूझ रही देश की राजधानी दिल्ली को पहाड़ी राज्य हिमाचल से जल्द अतिरिक्त पानी की आपूर्ति होगी। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्लीवासियों को बड़ी राहत देते हुए गुरुवार को हिमाचल प्रदेश को 137 क्यूसेक अतिरिक्त पानी छोड़ने का निर्देश दिया। साथ ही यह भी कहा कि हिमाचल हरियाणा को पूर्व सूचना देकर पानी छोड़े। जस्टिस प्रशांत के मिश्रा और केवी विश्वनाथन की अवकाश पीठ ने इसके अलावा हरियाणा सरकार से कहा है कि वह दिल्ली तक पानी की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करे

Jun 6, 2024 - 19:47
Jun 6, 2024 - 19:52
 0  61
दिल्ली के लिए 137 क्यूसेक अतिरिक्त पानी छोड़े हिमाचल , सुप्रीम कोर्ट की दो टूक बोले , पानी पर न हो राजनीति
न्यूज़ एजेंसी - नई दिल्ली  06-06-2024
पानी की कमी से जूझ रही देश की राजधानी दिल्ली को पहाड़ी राज्य हिमाचल से जल्द अतिरिक्त पानी की आपूर्ति होगी। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्लीवासियों को बड़ी राहत देते हुए गुरुवार को हिमाचल प्रदेश को 137 क्यूसेक अतिरिक्त पानी छोड़ने का निर्देश दिया। साथ ही यह भी कहा कि हिमाचल हरियाणा को पूर्व सूचना देकर पानी छोड़े। जस्टिस प्रशांत के मिश्रा और केवी विश्वनाथन की अवकाश पीठ ने इसके अलावा हरियाणा सरकार से कहा है कि वह दिल्ली तक पानी की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करे। 
कोर्ट ने निर्देश दिया कि जब पानी हथिनी कुंड बैराज से छोड़ा जाए तो हरियाणा वजीराबाद तक पानी को पहुंचाने में मदद करे , ताकि बिना किसी परेशानी के दिल्ली के लोगों को पानी की आपूर्ति हो सके। इसके बाद वजीराबाद बैराज से भी हरियाणा पानी को रिलीज करे। शीर्ष कोर्ट ने कहा कि हरियाणा सरकार हिमाचल से दिल्ली की ओर जाने वाले पानी को नहीं रोक सकती है। कोर्ट ने दिल्ली सरकार को भी पानी की बर्बादी होने से रोकने के निर्देश दिए हैं। साथ ही पानी की कमी को लेकर दिल्ली सरकार को फटकार भी लगाई है। 
कोर्ट ने अपर यमुना रिवर बोर्ड से भी कहा कि बहने वाले पानी को मापा जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने हिमाचल से यह भी कहा है कि उनके पास जितना भी अतिरिक्त पानी है, वो वे रिलीज करें। जानकारी के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश पर हिमाचल सरकार ने 137 क्यूसेक पानी जारी करने की सहमति दे दी है। कोर्ट के मुताबिक हिमाचल ने इस पर किसी भी तरह का ऑब्जेक्शन नहीं किया है। 
सुप्रीम कोर्ट की अवकाश पीठ ने टिप्पणी की कि पानी पर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने हरियाणा की इस दलील को खारिज कर दिया कि इस अतिरिक्त पानी को मापने और अलग करने की कोई व्यवस्था नहीं है। पिछले एक महीने से भीषण गर्मी के बीच दिल्ली गंभीर जल संकट का सामना कर रही है। पूरे शहर में तापमान 40-50 डिग्री के बीच दर्ज किया गया। राजधानी में हीट स्ट्रोक के कारण एक व्यक्ति की मौत भी दर्ज की गई।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow