भूकंप के झटके से हिली लाहौल-स्पीति की धरती, डरे सहमे घरों से बाहर निकले लोग

हिमाचल प्रदेश के केलांग जिला लाहौल-स्पीति में वीरवार रात करीब 8:53 बजे भूकंप के झटका महसूस किया है। भूकंप का केंद्र जम्मू और कश्मीर के किश्तवाड़ में था। भूकंप की तीव्रता 4.0 आंकी गई

Apr 19, 2024 - 09:50
 0  116
भूकंप के झटके से हिली लाहौल-स्पीति की धरती, डरे सहमे घरों से बाहर निकले लोग

यंगवार्ता न्यूज़ - लाहौल-स्पीति    19-04-2024

हिमाचल प्रदेश के केलांग जिला लाहौल-स्पीति में वीरवार रात करीब 8:53 बजे भूकंप के झटका महसूस किया है। भूकंप का केंद्र जम्मू और कश्मीर के किश्तवाड़ में था। भूकंप की तीव्रता 4.0 आंकी गई है। धरती हिलने के बाद लोग अपने अपने घरों से बाहर निकल गए। 

हालांकि अभी तक कोई नुकसान की सूचना नहीं हैं। वहीं उपायुक्त लाहौल-स्पीति राहुल कुमार ने कहा कि यदि आपके क्षेत्र के आसपास भूकंप के कारण कोई क्षति होती है तो इसकी सूचना 1077 पर दी जा सकती है। पृथ्वी के अंदर सात प्लेट्स हैं, जो लगातार घूमती रहती हैं। 

जहां ये प्लेट्स ज्यादा टकराती हैं, वह जोन फॉल्ट लाइन कहलाता है। बार-बार टकराने से प्लेट्स के कोने मुड़ते हैं। जब ज्यादा दबाव बनता है तो प्लेट्स टूटने लगती हैं। नीचे की ऊर्जा बाहर आने का रास्ता खोजती हैं और डिस्टर्बेंस के बाद भूकंप आता है। 

भूकंप का केंद्र उस स्थान को कहते हैं जिसके ठीक नीचे प्लेटों में हलचल से भूगर्भीय ऊर्जा निकलती है। इस स्थान पर भूकंप का कंपन ज्यादा होता है। कंपन की आवृत्ति ज्यों-ज्यों दूर होती जाती हैं, इसका प्रभाव कम होता जाता है। 

फिर भी यदि रिक्टर स्केल पर 7 या इससे अधिक की तीव्रता वाला भूकंप है तो आसपास के 40 किमी के दायरे में झटका तेज होता है। लेकिन यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि भूकंपीय आवृत्ति ऊपर की तरफ है या दायरे में। यदि कंपन की आवृत्ति ऊपर को है तो कम क्षेत्र प्रभावित होगा।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow