दो दशक बाद भी चार धाम में स्थापित नहीं हो सका एयर ट्रैफिक कंट्रोल रूम , सुरक्षा को लेकर उठ रहे सवाल

तीन तरफ से पर्वत शृंखलाओं से घिरे और चौथी तरफ संकरी गहरी घाटी वाले केदारनाथ क्षेत्र में हवा की दिशा और दबाव की सही जानकारी नहीं मिलती है। बावजूद इसके यहां हेलिकॉप्टर अंधाधुंध उड़ान भर रहे हैं। चार धाम में दो दशक बाद भी हवाई सेवा की सुरक्षा के लिए एयर ट्रैफिक कंट्रोल रूम स्थापित नहीं किया गया है। केदारनाथ में प्रतिवर्ष यात्रा काल में संचालित होती आ रही है

May 25, 2024 - 19:28
 0  44
दो दशक बाद भी चार धाम में स्थापित नहीं हो सका एयर ट्रैफिक कंट्रोल रूम , सुरक्षा को लेकर उठ रहे सवाल
यंगवार्ता न्यूज़ - देहरादून  25-05-2024

तीन तरफ से पर्वत शृंखलाओं से घिरे और चौथी तरफ संकरी गहरी घाटी वाले केदारनाथ क्षेत्र में हवा की दिशा और दबाव की सही जानकारी नहीं मिलती है। बावजूद इसके यहां हेलिकॉप्टर अंधाधुंध उड़ान भर रहे हैं। चार धाम में दो दशक बाद भी हवाई सेवा की सुरक्षा के लिए एयर ट्रैफिक कंट्रोल रूम स्थापित नहीं किया गया है। केदारनाथ में प्रतिवर्ष यात्रा काल में संचालित होती आ रही है। यह सेवा उत्तराखंड सिविल एविएशन डेवलपमेंट ऑथॉरिटी ( यूकाडा ) और डायरेक्टोरल जनरल ऑफ सिविल एविएशन ( डीजीएसी ) की देखरेख में संचालित की जा रही है। 
लेकिन दोनों संस्थाएं भी हेलीकॉप्टर और श्रद्धालुओं की सुरक्षा को लेकर आंख मूंदे हुए हैं। स्थिति यह है कि केदारनाथ यात्रा में हेलीपैड की चेकिंग डीजीसीए के लिए खानापूर्ति बनकर रह गई है। हेलीपैड पर यात्री सुविधा और सुरक्षा के क्या-क्या प्राथमिक इंतजाम हैं, संस्था को इससे कोई लेना देना नहीं होता है। विषम परिस्थितियों वाले केदारनाथ धाम में जहां एमआई-26 और एमआई-17 हेलीपैड मौजूद हैं , लेकिन एयर ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम स्थापित नहीं है। जिस कारण हेलीकॉप्टर की उड़ान के दौरान पायलट को हवा के दबाव और तापमान की सही जानकारी नहीं मिल पाती है। 
हवा की दिशा को जानने के लिए हेली कंपनी प्रबंधन द्वारा केदारनाथ व केदारघाटी के हेलीपैड पर झंडियां लगाई गई है , जिससे हवा की अनुमानित दिशा के हिसाब से हेलीकॉप्टर टेक ऑफ व लैंडिंग करते हैं। केदारघाटी से केदारनाथ जब हल्की बारिश में कोहरा छाने लगता है, तब हेलीकॉप्टर की उड़ान को लेकर संयश बना रहता है। लेकिन शासन, प्रशासन, यूकाडा और डीजीसीए इस दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठा रहे हैं। 
सूत्रों के मुताबिक केदारनाथ यात्रा में हेलीकॉप्टर की उड़ान को लेकर जिला प्रशासन ने यूकाडा को कई पत्र भेजे हैं, लेकिन इनका जवाब नहीं मिलता। बीते वर्षों में जिला स्तर पर संबंधित अधिकारियों ने स्वयं भी इस बात को स्वीकार किया है कि यूकाडा और डीजीसीए हेलिकॉप्टर सेवा को लेकर किसी की नहीं सुनता है। स्थिति इस कदर है कि वर्ष 2019 में केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग द्वारा केदारनाथ यात्रा में हेलिकॉप्टर की नीची उड़ान को लेकर संबंधित कंपनियों को 32 नोटिस जारी किए थे, लेकिन एक का भी जवाब नहीं मिला।  
  नोडल अधिकारी हेलीकॉप्टर सेवा केदारनाथ व जिला पर्यटन अधिकारी रुद्रप्रयाग राहुल चौबे ने बताया कि केदारनाथ यात्रा में हेलिकॉप्टर सेवा के बेहतर और सुरक्षित संचालन के लिए यूकाडा व डीजीसीए को जिला प्रशासन के माध्यम से पत्र भेजा गया है। साथ ही हेली कंपनियों को उड़ान का समय और निश्चित शटल को लेकर भी निर्देशित किया गया है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow