20 हजार रुपए सालाना की जाए किसान सम्मान निधि , भाकियू जनशक्ति ने सरकार पर लगाया किसानों की अनदेखी का आरोप

अलकनंदा मैदान पर शुरू हुए भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति के राष्ट्रीय अधिवेशन एवं किसान पंचायत में खेती किसानी से जुड़े विभिन्न मुद्दों और समस्याओं पर चर्चा की गयी। अधिवेशन में भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति के पदाधिकारियों ने सरकारों पर किसानों की अनदेखी का आरोप लगाया और समस्याओं को दूर करने की मांग की। अधिवेशन में आए किसानों को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति के राष्ट्रीय अध्यक्ष धर्मेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि सरकारों की अनदेखी के चलते किसानों की हालत दिन प्रतिदिन खराब हो रही है

Jun 20, 2024 - 20:15
Jun 20, 2024 - 20:25
 0  51
20 हजार रुपए सालाना की जाए किसान सम्मान निधि , भाकियू जनशक्ति ने सरकार पर लगाया किसानों की अनदेखी का आरोप
सन्नी वर्मा - हरिद्वार  20-06-2024
अलकनंदा मैदान पर शुरू हुए भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति के राष्ट्रीय अधिवेशन एवं किसान पंचायत में खेती किसानी से जुड़े विभिन्न मुद्दों और समस्याओं पर चर्चा की गयी। अधिवेशन में भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति के पदाधिकारियों ने सरकारों पर किसानों की अनदेखी का आरोप लगाया और समस्याओं को दूर करने की मांग की। अधिवेशन में आए किसानों को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति के राष्ट्रीय अध्यक्ष धर्मेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि सरकारों की अनदेखी के चलते किसानों की हालत दिन प्रतिदिन खराब हो रही है। फसलों की लागत लगातार बढ़ रही है। लागत के अनुसार दाम नहीं मिलने से किसान कर्ज के दुष्चक्र में फंस रहे हैं। 
धर्मेन्द्र कुमार सिंह ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि किसान की आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए किसान सम्मान निधि 6 हजार रूपए वार्षिक से बढ़ाकर 20 हजार रूपए वार्षिक की जाए। किसान आयोग का गठन किया जाए और उसमें किसान संगठनों के प्रतिनिधियों को शामिल किया जाए। स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को तत्काल लागू किया जाए। उन्होंने कहा कि किसानों के हितों में भाकियू जनशक्ति निरंतर संघर्ष करती रहेगी। किसी भी किसान का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा। राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष एवं यूपी प्रदेश अध्यक्ष देवेंद्र शुक्ला ने कहा कि मिलों पर किसानों का करोड़ों रूपए बकाया हैं। जिसका भुगतान नहीं किया जा रहा है। कप्तानगंज चीनी मिल, सिंभावली चीनी मिल और बृजनाथ चीनी मिल पर बकाया भुगतान किसानों को जल्द से जल्द दिलाया जाए और कप्तानगंज चीनी मिल को शुरू कराया जाए। पूरे देश में किसानों की गाड़ियों को टोल फ्री किया जाए। कृषि कार्य के लिए बिजली मुफ्त दी जाए। 
उन्होंने कहा कि यदि किसानों की मांगे नहीं मानी गयी तो भाकिूय जनशक्ति आंदोलन को बाध्य होगी। अधिवेशन में राष्ट्रीय मुख्य महासचिव चन्द्रभान सिंह, राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अखिलेश प्रताप सिंह चैहान, राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय चैधरी, राष्ट्रीय संरक्षक रामप्रकार उर्फ नन्हें सिंह, राष्ट्रीय संगठन मंत्री व जिलाध्यक्ष बिजनौर डा.नरपाल सिंह, हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष मनीषा बिष्ट, प्रदेश उपाध्यक्ष एवं हापुड़ जिलाध्यक्ष सुधीर चैधरी, युवा विंग के पश्चिमी यूपी प्रदेश अध्यक्ष विपुल चैधरी, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य मनोज कुमार मतला, जिलाध्यक्ष सहारनपुर अरविन्द चैधरी, अयोध्या मंडल महासचिव दीपक बाबू मिश्रा, राष्ट्रीय सचिव सचिन वाजपेई, अयोध्या मंडल अध्यक्ष दुर्गेश सिंह, मेरठ मंडल उपाध्यक्ष मुद्स्सर अली, मेरठ जिला प्रभारी अजीत सिंह, बाराबंकी जिलाध्यक्ष चंद्रपाल सिंह, प्रदेश संगठन मंत्री जयशंकर अवस्थी, प्रदेश सचिव अनुराग त्यागी, हापुड़ जिलाध्यक्ष मनीष यादव सहित बड़ी संख्या में किसान मौजूद रहे।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow