पहली बार टोंस नदी क्रॉस करेंगे चालदा महासू, सिरमौर के लिए होगा ऐतिहासिक पल, तैयारियों में जुटे 11 खतों के लोग....

शिलाई के गांव पश्मी में छत्रधारी चलदा महासू महाराज के आगमन का एतिहासिक क्षण अगले साल पूरा होने वाला है। जिसका इंतजार शिलाई कसबे के हर व्यक्ति को था। टोंस नदी उस पार उतराखण्ड के जोंसार बावर से चलदा महाराज के शिलाई क्षेत्र के आगमन पर लोगों में खुशी की लहर

Jul 10, 2024 - 08:57
Jul 10, 2024 - 09:13
 0  136
पहली बार टोंस नदी क्रॉस करेंगे चालदा महासू, सिरमौर के लिए होगा ऐतिहासिक पल, तैयारियों में जुटे 11 खतों के लोग....

यंगवार्ता न्यूज़ - शिलाई   10-07-2024

शिलाई के गांव पश्मी में छत्रधारी चलदा महासू महाराज के आगमन का एतिहासिक क्षण अगले साल पूरा होने वाला है। जिसका इंतजार शिलाई कसबे के हर व्यक्ति को था। टोंस नदी उस पार उतराखण्ड के जोंसार बावर से चलदा महाराज के शिलाई क्षेत्र के आगमन पर लोगों में खुशी की लहर है। 

प्रकाश चौहान (बीडीसी सदस्य व पूर्व प्रधान) ने बताया कि रविवार को शाठी बील का जेष्ठ थान मंदिर कोटी बावर में 11 खतों की महापंचायत में सर्व सहमति से गांव पश्मी में छत्रधारी चलदा महाराज देव पालकी के प्रवास का निर्णय लिया गया। ग्राम पश्मी के लोगों के अग्रेह को चलदा महाराज ने पहले ही सहमति दी थी, और अब छत्रधारी चलदा महाराज के बजीर दीवान सिंह राणा के प्रयासों से महापंचायत में अगले साल के बैशाख माह  में पालकी प्रवास पर सहमती प्राप्त हुई है। 

उन्होंने बताया कि कुछ समय के पश्चात छत्रधारी चलदा महाराज की प्रवास की एतिहासिक तिथि भी तय हो जाएगी। इतिहास में पहली बार चलदा महासू महाराज के सिरमौर आगमन पर पश्मी में दर्शन का सोभाग्य पुरे प्रदेश वासियों को प्राप्त होने वाला है। 

उन्होंने बताया कि चलदा महासू महाराज बजीर पश्मी दिनेश, धिमेदार बारूराम ने छत्रधारी चलदा महासू महाराज बजीर दीवान सिंह राणा, महासू सिमिति अध्यक्ष चमन सिंह स्याणा खत बावर, फ़तेह सिंह स्याणा खत मशंग, जगत सिंह रावत, नीमगा, सहित शाठ बील की सभी खतों के स्याणों का इस  ऐतिहासिक फैसले के लिए आभार व्यक्त किया है। 

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow